सर-ए-राह-ए-तलब दुनियां ग़म लेती है
ज़ुल्फ है की उलझ कर ही दम लेती है

—सुरेश सांगवान ‘सरु’

Facebook Comment

Internal Comment

Leave a Reply