ये ज़र, ये जमीं, ये सारे एहतमाम,
अदावत हैं यहीं के, वरना कहां से लाया था मैं।

Facebook Comment

Internal Comment

Leave a Reply