ये मेरी आदत बहुत पुरानी है
पढने और पढ कर लिखने की

मगर मैं अक्सर टूट जाती हूं 
वो चेहरे जो कह नहीं पाते हैं
उन्हें पढ कर मैं अक्सर टूट जाती हूं

मगर आदत है ये ऐसी बिना
नफे नुक़सान करती हूं

ये मेरी आदत बहुत पुरानी है
पढने और पढ कर लिखने की

आभा..

Facebook Comment

Internal Comment

Leave a Reply