ये कौन न जाने दुआएँ दे रहा है
सूखे पत्ते को हवाएँ दे रहा है

–सुरेश सांगवान ‘सरु’

Facebook Comment

Internal Comment

Leave a Reply