यादों की कैद से आज़ाद हो भी जाओ अगर
वो रूह कहाँ से लाओगे जो उनकी इबादत न करे..
आभा..

Facebook Comment

Internal Comment

Leave a Reply