वो हंसी शाम जो उधार है तुम्हारी मुझ पर
फक़त उसके सहारे सदियां गुज़ार आये..
आभा…

Facebook Comment

Internal Comment

Leave a Reply