उसकी आँखों को कभी गौर से देखा है फ़राज़,
रोने वालों की तरह जागने वालों जैसी…

Facebook Comment

Internal Comment

Leave a Reply