ऐ अन्ज़ान,
तुम दूर हो मुझसे, मै इतना परेशान नही होता।
पर किसी और के इतना पास हो, बात तो यह बर्दाश्त नही होती?

Facebook Comment

Internal Comment

Leave a Reply