ऐ अन्ज़ान,
हम ना होंगे इस लखनऊ शहर में तो कौन मनायेगा तुम्हें,
ये बुरी बात है हर बात पर रुठा ना करों।

Facebook Comment

Internal Comment

Leave a Reply