ठोकरें जब ज़ीस्त दर-बदर खाती है
तमन्ना का क्या है बदल जाती है

–सुरेश सांगवान’सरु’

Facebook Comment

Internal Comment

Leave a Reply