होठो पे हंसी सजाये रखना दिल में सदा सकून रखना
ना जाने कब खुदा की रहम हो जाये और तख़्तो ताज पर हमे सजाये ।

Nisha nik

#G3

कौन कहता है ख़ामोशी बदग़ुमां है,
ज़रा ग़ौर से सुनिये इसकी अपनी ज़ुबां है,  Read more

आँखो में मेरे शराब है
पुरा बदन शब्ब है
अगर चाहत हो हुजूर को होठो से जाम चकने की
मयखाना -ए -शब्ब तैयार है।

फूँक से सूरज बुझाना छोड़ दो
रेत की मुट्ठी बनाना छोड़ दो

हो नहीं सकता जहाँ दिल से मिलना  Read more

ऐ अन्ज़ान,
कभी होंठों पर अगुंलिया, कभी गिरेंबां खींचना,
उसका अन्दाज-ए-हक़ जताना ही बड़ा जानलेवा है।

मधुशाला भाग – 4 (हरिवंश राय बच्चन)
कल? कल पर विश्वास किया कब करता है पीनेवाला,
हो सकते कल कर जड़ जिनसे फिर फिर आज उठा प्याला,
आज हाथ में था, वह खोया, कल का कौन भरोसा है, Read more

आँख के आंसू सूख चले हैं,
होठों की मुस्कान है खो चली,
अब तो तेरी याद में,  Read more

बेचैनियों  को  दिल  की  पैग़ाम  कोई  तो  दे
मेरी  निकहतों  को  दिलबर काम कोई तो दे

हवा महकते गुलाब की या ख़ला  ही कर अता  Read more

मात-पिता और गुरु का मान  हमेशा  रखना
बेटा  अच्छे – बुरे  का  ज्ञान   हमेशा  रखना

नरेन  सुभाष  टेगौर  कलाम  रमन  के  जैसे  Read more

तेरा हाथ, हाथ में हो अगर, तो सफर ही असले हयात है.
मेरे हर कदम पे है मंज़िलें, तेरा प्यार ग़र मरे साथ है,

मेरी बात का मेरी हमनफ़स, तू जवाब दे कि ना दे मुझे, Read more

मेरी ख़्वाहिश है कि फिर से मैं फ़रिश्ता हो जाऊँ,
माँ से इस तरह लिपट जाऊं कि बच्चा हो जाऊँ,

कम-से कम बच्चों के होठों की हंसी की ख़ातिर, Read more

रात की कालिख जब उफ़ान पर होती है
तेरी बाहों के चिरागों से तब सहर होती है

रोती है बहुत तब कोई नादान चकोरी Read more