पानी से भी आजकल सस्ता हो गया
ज़मीर आसान-ओ-आम रास्ता हो गया
-सुरेश सांगवान’सरु’