भारत का किसान आज भी परेशान
ना कोई पहचान ना कुछ सम्मान

भारत के रीढ़ में क्यूँ है पीड़ Read more

ए फलक़ कभी देख तो आके ज़मीन पे
कैसे-कैसों को इसने संभाल रखा है

—-सुरेश सांगवान’सरु’