शहर है हादसों का, यहां सब सपनों में जिया करते हैं
बस ख़ुद की खुशी की लिये सबको थोड़ा थोड़ा सा मार दिया करते हैं.
आभा….

जिस्म का दिल से अगर वास्ता नहीं होता !
क़सम खुदा की कोई हादसा नहीं होता !…