पिला दे कितनी भी साक़ी फिर भी
रह जाती है क़सक बाक़ी फिर भी

–सरु