ये संगदिलों की दुनिया है; यहाँ संभल के चलना ग़ालिब;
यहाँ पलकों पे बिठाया जाता है; नज़रों से गिराने के लिए…

~ Mirza Ghalib