चीखें भी यहाँ गौर से सुनता नहीं कोई,
अरे, किस शहर में तुम शेर सुनाने चले आये…