मुस्कान पर कुर्बान था, मुद्दत की बात है,
कोई हंसी खेल न, मोहब्बत की बात है।

है पराई वो अगर, तो हैरत की बात क्या,  Read more

जहां तक हो सका हमने तुम्हें परदा कराया है
मगर ऐ आंसुओं! तुमने बहुत रुसवा कराया है

चमक यूं ही नहीं आती है खुद्दारी के चेहरे पर Read more

मैने छोड़ा है शहर,एक कसम के लिये,
कोई बदनाम न हो जाये,कंही मेरे लिये,

तुम से मिल के,फिर कभी मेरा न रहा,  Read more

तपती आंखो में कहां जीते हैं ख्वाब
धूप की जलन तो कहां पलते हैं ख्वाब

ख्वाहिशों की नर्म छांव में बैठे बैठे  Read more

सामने के घर में जब देखी शमा,
अपने घर के वो उजाले याद आये।

भूलना चाहा किया जब दिल उन्हें, Read more

जो हो सके तो कोई टूटा हुआ वादा ही रख दे आंखो में मेरी
के आज बढ गयी है बेकरारी हद से कहीं ज्यादा मेरी….
आभा….

हाथ हाथों में क्या लिये साथी
दूर दुनियाँ से चल दिये साथी

आज चाहत है किसे मंज़िल की  Read more

कोलाहल मन के भीतर, अंतर्मन व्याकुल,
भयाक्रांत सब दिशायें, हलचल प्रतिपल|

स्वर्णिम दिवस हरित रात्रि,कहाँ ग़ुम हुई?,  Read more

जिस दरख़्त के नीचे
हम मिला करते थे
आज उसी के पास  Read more