ये मुहब्बत भी है क्या रोग फ़राज़,
जिसे भूले वो सदा याद आया…