मुद्दतों जिसकी याद में आंख की नमी ना गयी
उसकी ही बातें आज हमें मतलबी ठहरा गयी…..
आभा….