इश्क तेरे फरेब में,ये किस मुकाम तक आ गये,
घुट घुट के जिये,ऐसे की शमशान तक आ गये,

मेरे नेकी के चर्चे रहे,   Read more