बेचैनियों  को  दिल  की  पैग़ाम  कोई  तो  दे
मेरी  निकहतों  को  दिलबर काम कोई तो दे

हवा महकते गुलाब की या ख़ला  ही कर अता  Read more