बिना गाली-गलौज के उस बद्जबान को मेरा जवाब –

भारत माँ के जयकारे का,
तुझको है कोई ज्ञान नहीं।
तू फर्जों को भूल गया,  Read more

न डर दुश्मनों से जमाने से न डर,
डर दुराचार से बुराई से डर।

नेकी ही तेरी बदी को भगायेगी,  Read more

अंधेरों को हमसफ़र किया जाये
नज़रों को यूँ तेज़तर किया जाये

निकले हुए हैं तीर ज़माने भर से  Read more

आ चल लहरों संग नाचेंगे।

इक दूजे संग कैसा तालमेल,
अपनों से ऐसा मधुर मेल। Read more

फिर एक मंदिर ढहा है आज,
एक मस्जिद शहीद हुई है,
इंसानों की बस्ती मैं देखो आज, Read more

बिके न सच और झूठ की दुकान बहुत हैं
वो इसलिए की दिल छोटा अरमान बहुत हैं

घर बसाना है मुश्किल ए दौर-ए-तरक्की  Read more

उसने नकाब फेंक कर एहसान कर दिया,
हमको बिना वजह ही बदनाम कर दिया ।

तारीख के समंदर में ताकत थी इस कदर,  Read more

मात-पिता और गुरु का मान  हमेशा  रखना
बेटा  अच्छे – बुरे  का  ज्ञान   हमेशा  रखना

नरेन  सुभाष  टेगौर  कलाम  रमन  के  जैसे  Read more

खुश्बू-ए-गुल को हवाओं  से मिल जाने दे
रम  जाने दे ज़रा सा  और रम  जाने दे

दुनियाँ  से  ले जाएगा  ये रोग  इश्क़ का  Read more

बहुत पानी बरसता है तो मिट्टी बैठ जाती है ,
न रोया कर बहुत रोने से छाती बैठ जाती है ,

यही मौसम था जब नंगे बदन छत पर टहलते थे, Read more

दोस्ती जब किसी से की जाये,
दुश्मनों की भी राय ली जाए,

मौत का ज़हर हैं फिजाओं में, Read more

अगर ख़िलाफ़ हैं होने दो जान थोड़ी है
ये सब धुआँ है कोई आसमान थोड़ी है

लगेगी आग तो आएँगे घर Read more

नाजुक सी मोहब्बत है, दुश्मन ज़माना है,
ये जन्मों का रिश्ता है, पर सबसे छुपाना है,

क्या तेरी मज़बूरी है, Read more