#G4.

क्यूँ खोये खोये से मेरे दिलदार नज़र आते हैं,
कोई कह दे हम उनके दीदार को इधर आते हैं,

हथेली में मेरी अक्सर काँटे चुभाने वाले,  Read more

तेरे दिल में मेरे प्यार की जो बातें हैं,
तुझे उन बातों की कसम,

तेरे प्यार के किस्से मेरे हिस्से…  Read more

इस मर्तबा सफर यूँ बेकार रहा,
उनकी गली में भी उनका दीदार न हुआ।

ना पूछो के मंजिल का पता क्या है,
अभी बस सफर है सफर का दीदार  होने दो…

हमें परवाह नहीं की जीत  हमारी है या हार, Read more

तुम क्या जानो ए साहिबा के कितना प्यार तुमसे करते है
दीदार पाने को तुम्हारा हर दिन हम दुआएं हजार करते है
क्यू तुम हमसे यू रूठे रूठे रहते हो  Read more

समझता है के एक वही है शहर में दाना,
किस्मत अच्छी है उसकी जो हमसे नहीं मिला।

हद-ए-इंतज़ार देखो क़यामत भी आ गयी,  Read more

गए ज़माना हुआ तुझे,
ऐ मेरे लख्त-ए-जिगर,
आ भी जा अब लौट कर,  Read more

इक बार  नहीं  मैने  उसे   सौ बार कहा
इश्क़  आतिश  है  उसने  आबशार कहा

मुख़्तसर  कहा  बेखौफ़ और दमदार भी  Read more

हम कुछ ऐसे तेरे दीदार में खो जाते हैं,
जैसे बच्चे भरे बाज़ार में खो जाते हैं…♥