दिल ऎसा कि सीधे किए जूते भी बड़ों के,
ज़िद ऎसी कि ख़ुद ताज उठा कर नहीं पहना !
-मुनव्वर राना