वो हाथ कुछ अजीब से लगते हैं किसी और के हाथों में,
जिन हाथों की चूड़ियाँ कभी टूटी थी मेरे ही हाथों में…