होठो पे हंसी सजाये रखना दिल में सदा सकून रखना
ना जाने कब खुदा की रहम हो जाये और तख़्तो ताज पर हमे सजाये ।

Nisha nik

मोहबत में तन्हाई है
तेरे और मेरे मिलने में रूसवाई है
तूने अपनो को छोङा मेरे लिए
खुदा की नाइंसाफी देखो
मैने जग ही छोङ दिया तेरे लिए।

सोचो तो सब है जिन्दगी ,
न सोचो तो एक fun है जिन्दगी,
इब्बादत करो तो खुदा है जिन्दगी ,
ना मानो तो चंद सासो की एक माला है जिन्दगी।

उस जैसा मोती पूरे समंद्र में नही है,
वो चीज़ माँग रहा हूँ जो मुकद्दर में नही है,
किस्मत का लिखा तो मिल जाएगा मेरे ख़ुदा,
वो चीज़ अदा कर जो किस्मत में नही है……

मैं कब कहता हूँ वो अच्छा बहुत है
मगर उसने मुझे चाहा बहुत है

खुदा इस शहर को महफूज़ रखे  Read more

जहां तक हो सका हमने तुम्हें परदा कराया है
मगर ऐ आंसुओं! तुमने बहुत रुसवा कराया है

चमक यूं ही नहीं आती है खुद्दारी के चेहरे पर Read more

अजब दुनिया है नाशायर यहाँ पर सर उठाते हैं
जो शायर हैं वो महफ़िल में दरी-चादर उठाते हैं

तुम्हारे शहर में मय्यत को सब काँधा नहीं देते Read more

तुझे इश्क़ कर के ये यक़ीन हुआ कि
इबादत
के लिए ख़ुदा का मिलना ज़रूरी नहीं है
आभा..

मन के मैल से उल्फ़त का जंतर टूट जाता है
साहिल टूट जाये तो समंदर टूट जाता है

बिखर गया तिनका तिनका आँधी के आने से  Read more

ये तो ना सोचा था हमने, कोई ख़ुदा हो जायेगा,
दिल से दिल लगा के हमसे, वो जुदा हो जायेगा,

दर्द दिल में है अगर, फ़िक्र फिर किस बात की,  Read more

काश कि ये हालात,एकबार फिर बदल जाते,
अबकी तेरे बदलने से पहले,हम बदल जाते,

कितना ग़मज़दा रहा हूँ,तेरी जुदाई में सनम,  Read more

किसे सुनाऊ  अपने दिल के हालात एे खुदा,
कोई ऐसा मिला ही नही जो मेरे जज़्बात  भी समझता। ।  Read more

आबलापा कोई इस दश्त में आया होगा|
वर्ना आँधी में दिया किस ने जलाया होगा|

ज़र्रे-ज़र्रे पे जड़े होंगे कुँवारे सजदे,  Read more

शिकस्त-ए-दिल कहूँ या वक़्त की दरकार,
बिछड़ गया वो मुझसे कभी था जो मेरा करार।

वो जिस तरह गया था अपनों को छोड़ के,  Read more

आँख के आंसू सूख चले हैं,
होठों की मुस्कान है खो चली,
अब तो तेरी याद में,  Read more

लिखना चाहा ख़त तुझे एक शाम,
क़लम हाथ में और बगल में जाम,
सोचा था शिक़ायत लिखूंगा, शिक़वे करूंगा,  Read more

चाँद की  बस्ती  में काफ़िला सितारों का मिले
उठा  दो  जहाँ  पलकें मौसम बहारों का मिले

दुनियाँ की  भीड़ थी और  हम  आप से मिले  Read more

अब के हम बिछड़े तो शायद कभी ख़्वाबों में मिलें
जिस तरह सूखे हुए फूल किताबों में मिलें
ढूँढ उजड़े हुए लोगों में वफ़ा के मोती

Read more

जो मेरा दोस्त भी है, मेरा हमनवा भी है,
वो शख्स, सिर्फ भला ही नहीं, बुरा भी है….

मैं पूजता हूँ जिसे, उससे बेनियाज़ भी हूँ, Read more

इस से पहले के बे-वफ़ा हो जाएं;
क्यों न ऐ दोस्त हम जुदा हो जाएं;

तु भी हीरे से बन Read more