बड़ी तकलीफ देती है वो ख्वाहिशें
जो हजारों कोशिश करने के बाद भी मुक्कमल नहीं होती।

एक सूनी अकेली राह चलती
चेहरे पर मुस्कान चस्पां किये
राह की झाड़ियों से रिवाज़ों Read more

तुम लाख़ कोशिशें करलो ‘आकाश’, अब कभी ना हो पायेगी सुलह,
गर फ़िर भी मिलना चाहो, तो मिलते रहना एक अजनबी की तरह…

ये बात नहीं है सिर्फ़ बताने के लिये
हम तो उजड़े हैं तुम्हें बसाने के लिये

कसमें ना खाओ जानम जानते हैं सब यहाँ  Read more

Kabhi Sajday,Kabhi Aansu,, Hazaroon Koshisen, Lekin
Jo Kismat Main Nahi Likha Woh Ronay Se Nahi Milta..

Atul Azamgarhi

जिस दरख़्त के नीचे
हम मिला करते थे
आज उसी के पास  Read more

सबको रुसवा बारी-बारी किया करो
हर मौसम में फ़त्वे जारी किया करो

रातों का नींदों से रिश्ता Read more

कमी तेरे नसीबों में रही होगी, कि तू मेरी ना हुई,
मैने तो कोशिश बहुत की, तुझे अपना बनाने की…
~मनोज सिंह “मन”

तुम्हारे जिस्म की खुशबू गुलों से आती है
ख़बर तुम्हारी भी अब दूसरों से आती है

हमीं अकेले नहीं जागते Read more