ऐ अन्ज़ान,
बड़े कमाल का ताना दिया आज उसने मुझे….
कहा कि लिखते तो खूब हो, कभी समझा भी दिया करो।