जिन्दगी भी बङी कमबख्त चीज है
मिलती तो एक बार है पर रूलाती बार-बार है
-Nisha nik.

हाथो मे शराब बदलती रहती है,
नशे का असर वही रहता है….
कमबख्त तसवीरें बदलती रहती है
पर कत्ल करने का अन्दाज़ वो ही रहता है …