बरसों के बाद देखा इक शख्स दिलरुबा सा
अभी जहन में नहीं है पर नाम था भला सा

अबरू खिंचे खिंचे से आखें झुकी झुकी सी Read more