मुफलिसी में भी यहाँ, सुकून से हर बशर रहता है,
उन रेशमी परदों की दीवारों से,डर लगता है।

कितनी आजादी है,इन बस्तियों में रहने वालों को,
अमीरों की नगरी में कैदखाने सा,हर घर लगता है।

कितनी मासूमियत है,इनके चेहरे पर देखिए,
महलों वालों का दंभ से,अकड़ा सर लगता है।

वो नहीं समझते इन्हें, बराबरी के काबिल,
‘अयुज’ उनके शानो-शौकत में, इनका असर दिखता है।

Facebook Comment

Internal Comment

Leave a Reply