जिससे लिखा था तेरा नाम कभी ~
वो रंग उड़ने लगा है अब दिल की दीवारों से ।

किस पर क्या गुजरी किसी को क्या खबर
कुछ नहीं मिलता किसी को अपना हाल सुना के।

उस दिन रह जाएंगे हम अकेले हमेशा के लिए
जिस दिन हो जाओगे तुम किसी के सदा के लिए।

खुशियाँ तो आजकल बोतलों में बंद हो गयी है दोस्तों
गम जब बढ़ जाता है तो खरीद लाते हैं।

कभी पास बैठ कर गुजरा कभी दूर रह कर गुजरा
लेकिन तेरे साथ जितना भी वक्त गुजरा बहुत खूबसूरत गुजरा ।

मायूस हो गया हूँ जिंदगी के सफर से इस कदर
कि ना खुद से मिल पा रहा हूँ ना मंजिल से।

थम जा ऐ वक्त आज यही पर,
फिर ना जाने कब उनसे मुलाकात होगी।

बड़ी तकलीफ देती है वो ख्वाहिशें
जो हजारों कोशिश करने के बाद भी मुक्कमल नहीं होती।

एक टीस सी उठती है दिल में जब वो कहते हैं
कि मोहब्बत तो है मगर किसी और से।

जब आया मेरा चांद छत पर चांद देखने
तो चांद भी मेरे चांद का दीवाना हो गया।

जरा बारिश क्या हुई मेरे शहर में
के तेरी यादें बिखर गयी सावन की तरह ।

हमने तो उनको दिल दिया था यारो
मगर उनको गैरो की पायलें ज्यादा रास आयी ।

हमारा दिल भी उनका दिल नहीं जीत पाया,
और गैरो की पायलें ही उनको अपना बना गयी।

यूं तो हम भी अनमोल थे यारो ,
मगर उनकी पायल के आगे कीमत जरा कम पड़ गयी।

जब उदास होते थे तो कोई बात भी नहीं करता था
आज जब मुस्कुराते है तो लोग वजह पूछ लेते हैं।

ऐ इश्क एक शिकायत हमको भी है तुझसे
गवाही दे तो दोनों तरफ की दिया कर
हमें मुजरिम बना देता है तेरा एकतरफा होना।

मोहब्बत है मुझे तुमसे एक दिन तुझको भी हो जायेगी
छायी है जो ये घटायें बनकर खुशियाँ बरस जायेगी
कुछ इस तरह से होंगे इक दुजे के हम
कि हमारी मोहब्बत मिसाल बन जायेगी।

मोहब्बत है मुझे तुमसे एक दिन तुझको भी हो जायेगी
छायी है जो ये घटायें बनकर खुशियाँ बरस जायेगी
कुछ इस तरह से होंगे इक दुजे के हम
कि हमारी मोहब्बत मिसाल बन जायेगी।

अपनी इन नशीली निगाहों को जरा झुका दीजिए जनाब,
मेरा मजहब मुझे नशे की इजाज़त नहीं देता ।

इंतजार अब भी है तुम्हारा आज भी चाहत वही है।
माना कुछ गलतियां की है हमने मगर हम इन्सान बुरे नहीं है।