फौज में मौज हैँ,
हजार रूपये रोज है…
थोड़ा सा गम है,
इसके लिए भी रम है…
लाइफ थोड़ी रिस्की है,
इसके लिए तो विस्की है…

उस जैसा मोती पूरे समंद्र में नही है,
वो चीज़ माँग रहा हूँ जो मुकद्दर में नही है,
किस्मत का लिखा तो मिल जाएगा मेरे ख़ुदा,
वो चीज़ अदा कर जो किस्मत में नही है……