तुम रहना अपने द्वार,
करना मेरा इंतजार,
हम दोनो को जाना है, Read more

तुझे पाने को तेरे नाम से कई दें चुका हूँ अर्जीयाँ,
चलती नहीं मेरी रज़ा सब चलती रब की मर्जीयाँ।
झूठी कसमें झूठे वादे झूठी तेरी मोहब्बते, Read more

धोखा लगी मेरी मोहब्बत ज़माने को,
वो जो कईयों से कर रही है उसे प्यार कहते हैं….

इन्दर गुन्नासवाला

मेरे बद हालात पर हँसने लगे है लोग,
ताने भी कैसे-कैसे अब कसने लगे है लोग।

समझ रहा था जिन चेहरों को अपना मैं,
उन चेहरों में अब पराये बसने लगे है लोग।
-इन्दर गुन्नासवाला

तुमको छोड़ के जिस दिन मैं, दूर कहीं चला जाऊँगा।
आँखों में… मैं बनके आँसु याद बहुत तुम्हें आऊँगा।
इन्दर गुन्नासवाला

यादें तेरी भूलु कैसे मुझको तुम बतला जाओ,
बैठु में आँखें बंद करके और पास मेरे तुम आ जाओ।

जब सोंचु में तुमको ये दूरी मुझको डँसती है,
इस दूरी के मौसम को आकर के तुम झुठला जाओ।

-इन्दर गुन्नासवाला

जो संभाल न पाती ठीक से किताबे अपनी,
आज उसने घर की सारी जिम्मेदारी संभाल ली..
– इन्दर मीणा

मेरी सुबह तुम, मेरी शाम तुम,
मेरी जिंदगी तमाम तुम,

सब कुछ मेरा अब तुझसे ही,
मेरी ख़ास तुम मेरी आम तुम,  Read more

तुम मुझसे दूर ही रहना मेरी आदत न हो जाये…
मेरे पास रहते-रहते  मुझसे चाहत न हो जाये..
इन्दर मीणा.