खाली कागज़ पे क्या तलाश करते हो?
एक ख़ामोश-सा जवाब तो है।

डाक से आया है तो कुछ कहा होगा  Read more

दिन कुछ ऐसे गुज़ारता है कोई
जैसे एहसान उतारता है कोई

आईना देख के तसल्ली हुई   Read more

पूरे का पूरा आकाश घुमा कर बाज़ी देखी मैने,
पूरे का पूरा आकाश घुमा कर बाज़ी देखी मैने

काले घर में सूरज चलके, तुमने शायद सोचा था Read more

आदतन तुम ने कर दिये वादे
आदतन हम ने ऐतबार किया

तेरी राहों में हर बार रुक कर
हम ने अपना ही इन्तज़ार किया Read more

शाम से आँख में नमी सी है
आज फिर आप की कमी सी है

दफ़्न कर दो हमें कि साँस मिले Read more

बस एक चुप सी लगी है, नहीं उदास नहीं!
कहीं पे सांस रुकी है!
नहीं उदास नहीं, बस एक चुप सी लगी है!! Read more

मचल के जब भी आँखों से छलक जाते हैं दो आँसू 
सुना है आबशारों को बड़ी तकलीफ़ होती है.

खुदारा अब तो बुझ जाने दो इस जलती हुई लौ को  Read more

बिक जायें बाज़ार में हम भी लेकिन उससे क्या होगा,
जिस कीमत पर तुम मिलते हो उतने कहाँ है अपने दाम…
-ग़ुलज़ार

मुझको भी तरकीब सिखा कोई यार जुलाहे,
अक्सर तुझको देखा है कि ताना बुनते,
जब कोई तागा टूट गया Read more