मोहब्बत छोड़ तो दी उसने मगर पहचान इतनी बाकी है…
जब भी मिलता है निगाहें फेर लेता है…………
आभा..

Facebook Comment

Internal Comment

Leave a Reply