मै जो भी हूँ,
जैसी भी हूँ,
बस तुम्हारी हूँ,
मुझसे ऐ अन्ज़ान,
मेरी जात ना पूँछो।

Facebook Comment

Internal Comment

Leave a Reply