मेरे सजदों में कमी तो नहीं थी ‘फ़राज़’,
क्या मुझ से भी बढ़ के किसी ने माँगा था उसको…

Facebook Comment

Internal Comment

Leave a Reply