मेरे लफ़्ज़ों की पहचान अगर कर लेता वो ‘फ़राज़’
उसे मुझसे नहीं खुद से मुहब्बत हो जाती…

Facebook Comment

Internal Comment

2 comments on “मेरे लफ़्ज़ों की पहचान अगर…

  • Kabhi tou kar lou meri mohabbat ka yakin,
    Guzar na jaye kahin saari umr aazmaane mein…

    Reply

Leave a Reply