ना लफ़्ज़ों का लहू निकलता है ना किताबें बोल पाती हैं,
मेरे दर्द के दो ही गवाह थे और दोनों ही बेजुबां निकले…

Facebook Comment

Internal Comment

One comment on “Mere Dard Ke Do Hi Gawah The…

Leave a Reply