आदर्श मेरा वो नहीं, जो शीर्ष पर आसीन हो,
और अपने कर्म से, निष्कृय हो, उदासीन हो।
आदर्श मेरा निम्न स्तर का बशर होगा अगर,
कर्तव्य निष्ठा हो जिसे, निज स्वार्थ से विहीन हो।

Facebook Comment

Internal Comment

Leave a Reply