ज़िंदगी  धुआँ -धुआँ  शाम  सी  लगती है
हर  बात  खास  मुझे आम सी  लगती है

तन्हाइयों  के  घर  मुझे  छोड़  गया  वो Read more

चाँद- सितारों  में हैं क्या चर्चे चलकर  देखा जाये
ज़मीं का आसमाँ से कभी दिल बदलकर देखा जाये

क़िताबी  इल्म  नहीं  यारो तज़रबा अपना है मेरा Read more