ज़िन्दगी तेरी आजमाइशें
मेरी तुझसे फरमाइशें
घटती क्यों नहीं !