मुझे गर्व था कि मैं तुझे जानता हूं,
मेरी सभी रचनाओं में दुनिया वाले तेरी छवि देखते हैं|

यहां आ कर वे पूछते हैं “ये कौन है? 
“मैं आवाक् रह जाता हूं, “कौन जाने!” यही कह देता हूं|

वे मुझे भला बुरा कह कर अवज्ञा से मुंह फेर कर चले जाते हैं,
तेरी छवि मुस्कुराती है|

तेरी कहानी को अमर गीतों में बांधता हूँ,
मेरे ह्रृदय के निर्झर से वे गीत स्वतः बहते हैं|

वे आकर पूछते हैं, “इन गीतों का अर्थ क्या है?”
उन्हे क्या कहूं, यही कह देता हूं, “कौन जाने क्या अर्थ है इनका”

वे मुझे भला बुरा कह कर अवज्ञा से मुंह फेर कर चले जाते हैं,
तू मुस्कुराता हुआ बैठा रहता है|

Facebook Comment

Internal Comment

Leave a Reply