हमसे पूंछो शायरी मांगती है कितना लहू,
लोग समझते हैं कि धंधा बड़े आराम का है।

Facebook Comment

Internal Comment

Leave a Reply