मेरे अश्क और तेरी यादों का, कोई तो रिश्ता जरुर है,
कम्बखत जब भी आते है, दोनों साथ ही आते है,
~मनोज सिंह “मन”

Facebook Comment

Internal Comment

Leave a Reply