कितना आसां था तेरे हिज्र में मरना जाना;
फिर भी इक उम्र लगी जान से जाते-जाते।

हिज्र: जुदाई

Facebook Comment

Internal Comment

Leave a Reply