कहा हुआ अपनों का अब सुनाई देने लगा
छुपा हुआ था जो तुझमें दिखाई देने लगा

—सुरेश सांगवान’सरु’

Facebook Comment

Internal Comment

Leave a Reply