लिखने को, कब लिखती हूं मैं
बस कागज़ पे दिल रखती हूं मैं
आभा..

Facebook Comment

Internal Comment

Leave a Reply